अर्ध-नारीश्वर पिज्जा!

two in one pizza

आवश्यकता ही नहीं कई बार मजबूरी भी आविष्कार की जननी होती है और यहां प्रस्तुत अर्धनारीश्वर पिज्जा के पीछे भी ऐसी ही एक मजबूरी है.
एक हिस्से में आप चीज को पिघलते देख रहे होंगे, जबकि दूसरे हिस्से में सूखे की मार पड़ी लगेगी. ऐसा इसलिए क्योंकि मुझे किसी ‘चीज’ से परहेज नहीं है.
आप देखेंगे कि शिमला मिर्च भी एक ही तरफ है – बेल पेपर येलो. दूसरी तरफ जो है बताने की जरूरत नहीं लगती.
दरअसल, मेरी मैम को हरी मिर्च पसंद है, शिमला मिर्च नहीं!
बाकी तो जो है सो हइये है – थोड़ा लिखे को भी ज्यादा ही समझें-बूझें!
सादर, सप्रेम और सविनय डाउनलोडार्थ, दूर-दर्शनार्थ और फीडबैकार्थ!

1 thought on “अर्ध-नारीश्वर पिज्जा!

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

%d bloggers like this: